महज़ बधाई संदेशों से नहीं, वृक्षारोपण जैसे सफ़ल प्रयासों से बनेगा पर्यावरण साफ़: ABVP

  • by Staff@ TSD Network
  • June 5, 2019

पिछले वर्ष “बीट प्लास्टिक पॉल्यूशन” थीम पर भारत द्वारा आयोजित विश्व पर्यावरण दिवस 2018 के बाद, इस बार विश्व पर्यावरण दिवस 2019 की मेजबानी चीन द्वारा की जा रही है। और इस बार की थीम रही “बीट एयर पॉल्यूशन”

जी हाँ! हम साँस लेना बंद नहीं कर सकतें हैं, और शायद इसलिए जरूरी है कि हम हवा की गुणवत्ता बनाये रखने के लिए कुछ ठोस क़दम उठाएं। और इन ठोस क़दमों में वृक्षारोपण को किसी भी प्रकार से भी नज़रंदाज़ नहीं किया जा सकता है।   

और इसी दिशा में एक सराहनीय क़दम उठाया जॉर्ज मेडिकल विश्वविद्यालय में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुडें कार्यकर्ताओं नेतथा बेहद जरूरी प्रयासों को लेकर

दरसल 5 जून यानि विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) के किंग जॉर्ज मेडिकल विश्वविद्यालय के कार्यकर्ताओं ने वृक्षारोपण किया। इस मौके पर इन कार्यकर्ताओं ने परिसर ने वृक्षारोपण कर समाज को एक शुद्ध पर्यावरण के निर्माण में सहयोग करने का संदेश दिया।

इस मौके पर विश्वविद्यालय के कार्यकर्ता डॉक्टर गोपाल कौशल ने कहा,

“हम सभी को वृक्षारोपण करना चाहिए जिससे हम सभी को शुद्ध हवा ज्यादा मात्रा में ऑक्सीजन मिल सके और हम कई बीमारियों से भी निजात पा जाए इसलिए हम सभी को संकल्प करना चाहिए कि ज्यादा से ज्यादा वृक्षारोपण करें और उनका देखभाल भी इसी प्रकार से करें।”

इस मौके पर रजनीश मौर्या, मोहित, अनुराग अग्रवाल, आदित्य जायसवाल, सुनील सिंह व विश्वविद्यालय कार्य प्रमुख अंकुर गुप्ता भी मौजूद रहे।

वहीँ इसके साथ ही अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) के अवध प्रांत संगठन मंत्री, घनश्याम शाही ने सोशल मीडिया के माध्यम से विश्व पर्यावरण दिवस के इस अवसर पर लोगों से बढ़ती प्रदूषण की समस्या को कम करने के लिए आगे आने की अपील करते हुए लिखा,

“आज लोग बिना एक पौधा लगाए महज़ खोखले तौर पर पर्यावरण दिवस की बधाई देते नज़र आते हैं। ग्लोबल वार्मिंग की समस्या तेजी से बढ़ रही है और ऐसे में वक़्त है सबको गंभीरता से इस विषय पर सोचने का और हर आवश्यक कदम उठाने का।”

Facebook Comments
Staff@ TSD Network

Our hard-working staff writing team | You can reach us at 'contact@tsdnetwork.com'
  • facebook
  • twitter
  • linkedIn
  • instagram