May 31, 2020
  • facebook
  • twitter
  • linkedin
  • pinterest
  • instagram
can-coronavirus-spread-through-newspapers

क्या वाकई अख़बार (NewsPaper) के जरिये फ़ैल सकता है कोरोना वायरस (COVID-19)?

  • by Team TSD
  • March 31, 2020

कोरोना वायरस (COVID-19) संक्रमण को लेकर लोगों को बाहरी लोगों और चीज़ों से दूरी बनाये रखने की हिदायत दी गयी है। लेकिन ऐसे में लोगों के सामने कई सवाल खड़े हो गये हैं, जैसे क्या रोज़ आने वाले अख़बार और नकद पैसों के लेनदेन के जरिये भी इस वायरस के संक्रमण के फैलने की संभावना होती है?

दरसल इकॉनोमिक टाइम्स में छपी एक रिपोर्ट की माने तो बीते कुछ समय में ऐसे वैज्ञानिक प्रमाण सामने आयें हैं कि अख़बारों के जरिये यह संक्रमण नहीं फैलता है।

दरसल वैश्विक स्तर पर सबसे प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में से एक इंटरनेशनल न्यूज़ मीडिया एसोसिएशन (INMA) ने हाल में अखबारों के सुरक्षित होने को लेकर कुछ वैज्ञानिक रिसर्च जुटाए और जिनके आधार पर यह कहा गया कि अख़बार संक्रमण को फ़ैलाने में कैरियर (माध्यम) नहीं बनते हैं और यह पूरी तरह से सुरक्षित हैं।

दरसल इस दावे को लेकर कई आधार प्रस्तुत किये गये हैं, जैसे पहले तो दुनिया के किसी भी देश में अखबार के कागज के माध्यम से COVID-19 फ़ैलाने का कोई उदाहरण नहीं है।

और दूसरा आधार यह कि निर्जीव सतहों के वायरस फैलने पर किये गये रिसर्च से पता चलता है कि इन सतहों पर यह वायरस काफी कम समय के लिए रहने की क्षमता रखता है। और जिसमें अखबार के कागज में और भी कम।

दरसल ET की एक रिपोर्ट में यूएस सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन का हवाला देते हुए कहा गया कि जीवित कोशिकाओं के अलग ज्‍यादातर सतहों पर यह वायरस बहुत समय तक जिंदा नहीं रह सकता ता है।

साथ ही इस रिपोर्ट में कोझिकोड स्थित बेबी मेमोरियल हॉस्पिटल के डॉक्‍टर अनूप कुमार के दावे को भी पेश किये गया जिसमें उन्होनें कहा कि अखबार को असुरक्षित कहने का कोई पुख्ता आधार नहीं है। साथ ही AIIMS के डायरेक्‍टर डॉक्‍टर रणदीप गुलेरिया की मानें तो संक्रमित करने के लिए पेपर पर वायरस इतने लंबे समय तक जिंदा नहीं रहते हैं।

दरसल इसका एक आधार यह भी दिया जा रहा है कि अगर इसकी संभावनाएं होती तो सरकार अभी तक इस दिशा में कोई न कोई कदम जरुर उठाती। और शायद इसलिए केंद्र या किसी भी राज्य सरकार द्वारा अखबारों का सर्कुलेशन नहीं बंद किया गया है।

फिर भी बरतें सावधानी;

मौजूदा हालातों में थोड़ी अधिक सावधानी बरतने में कोई बुराई नहीं है। जहाँ एक तरफ आज के समय लोगों को दूध के पैकेट्स से लेकर सब्जियों को भी अच्छे से धो कर इस्तेमाल करने की सलाह दी जा रही है, वहीँ बाज़ार से सामान लाने पर अगर जरूरी न हो तो उसको अलग कहीं 1 दिन के लिए अलग रख देना चाहिए।

लेकिन अख़बार के साथ दिक्कत यही है कि न ही इसको धोया जा सकता है और न ही कोई 1 दिन पुराना अख़बार पढ़ना चाहेगा। ऐसे में हम अख़बार के साथ कुछ दुनियादी सावधानियां बरत सकतें हैं, जैसे;

– अखबार को किसी अलग से साइड टेबल पर ही रखें और वहीँ से उठा कर पढ़ने के बाद उसको वहीँ वापस रख दें।

– इसके साथ ही बहुत से लोग अपने रूम में ही बेड में अखबार पढ़ना पसंद करते हैं, जिसको आप कुछ दिनों के लिए बंद कर सकतें हैं।

– बाकी अख़बार पढ़ने के बाद आपको एक बार हाथों को धोने से भी गुरेज नहीं होना चाहिए?

 

Facebook Comments
Team TSD

A hard-working team, full of creativity, innovation, and knowledge of digital media. | You can reach us at thesocialdigital@gmail.com
  • facebook
  • twitter
  • linkedIn
  • instagram
Don`t copy text!