Keyless Scooters | “That’s the way to move” – Bounce

  • by Staff@ TSD Network
  • February 6, 2020
bounce-adds-a-fresh-twist-to-the-domain-of-uber-moto-ola-bike-and-rapido

आज के समय एक ही जैसी सेवाएं देने वाली कंपनियों की संख्या काफी होती है, और शायद इसलिए लोग अक्सर किसी न किसी कंपनी के बारे में ये कहते नज़र आ ही जाते हैं, कि आखिर इसमें अलग क्या है?

और लगता Bounce ने इस सवाल का जवाब तालश लिया है कि वह कैसे Uber Moto, Ola Bike और Rapido से बेहतर है। दरसल आपको बता दें Bounce उपयोगकर्ताओं को Dockless Scooter शेयरिंग सेवा मुहैया करवाता है, जो फ़िलहाल बेंगलुरु और हैदराबाद में प्रदान की जा रही है।

लेकिन दिलचस्प है, ‘That’s the way to move’ नामक कैंपेन, जिसके जरिये यह ब्रांड लोगों को किसी भी समय अपनी सेवाओं के इस्तेमाल के लिए प्रेरित कर रहा है। इसमें एक ही स्कूटर को कई यूजर्स द्वारा अलग अलग मौके पर इस्तेमाल करते दिखाया गया है

दरसल यूजर्स ऐप के माध्यम से Bounce नेटवर्क और वाहनों से जुड़ते हैं। रजिस्टर और लॉग इन करने के बाद, ग्राहक बिना चाबी वाले स्कूटर (बाउंस पेटेंट तकनीक) को जीपीएस के जरिये ट्रैक करके अपने निकटम सही जगह पर पार्क कर सकता है।

साथ ही वह अपने निकटतम स्कूटर को बुक भी कर, स्कूटर पर लगी पैडलॉक जैसी डिवाइस पर OTO डाल कर, स्कूटर की डिग्गी में रखे हेलमेट को पहन कर अपनी राइड शुरू कर सकतें हैं।

साथ ही वह यूजर स्कूटर को इस्तेमाल के बाद किसी भी सार्वजनिक पार्किंग क्षेत्र में खड़ा कर सकतें हैं। साथ ही राइडर्स वाहन इंटरफ़ेस के जरिये भी अपनी यात्रा को रोक सकते हैं।

आपको बता दें Bounce की स्थापना असल में 2014 में WickedRide Adventure Services नाम से की गई थी, जिसके तहत कंपनी प्रीमियम बाइक जैसे Harley Davidson और Kawasaki Ninja आदि के लिए रेंटिंग सेवा प्रदान करती थी।

बाद में इसको Bounce के नाम से ऑपरेशन को शिफ्ट करते हुए कंपनी ने लास्ट-मील कनेक्टिविटी प्रदान करने के मकसद के साथ इस नए मॉडल को पेश किया। कंपनी ने 2018 में इस नए मॉडल के साथ बेंगलुरु में इसकी शुरुआत की थी और अब यह हैदराबाद के साथ ही साथ अन्य शहरों में भी इसको शुरू करने जा रही है।

Facebook Comments
Staff@ TSD Network

Our hard-working staff writing team | You can reach us at 'contact@tsdnetwork.com'
  • facebook
  • twitter
  • linkedIn
  • instagram